Home स्पेशल रिपोर्ट माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक ने बनवाया दुनिया का सबसे बड़ा हवाई जहाज

माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक ने बनवाया दुनिया का सबसे बड़ा हवाई जहाज

माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक पॉल एलेन ने अपना बहुप्रतीक्षित सपना पूरा कर लिया है. एलेन ने अपने लिए दुनिया का सबसे बड़ा हवाईजहाज बनवाया है. उन्होंने इसका नाम स्ट्रैटोलॉन्च रखा है. एलेन ने बुधवार (31 मई) को पहली बार अपने इस महत्वाकांक्षी हवाईजहाज की तस्वीरें जारी की. इस हवाईजहाज के डैने 385 फीट चौड़े यानी फुटबॉल के मैदान से बड़े हैं. ईंधन के बगैर पांच लाख पौंड वजन वाले इस जहाज में ढाई लाख पौंड वजन का ईंधन भरा जा सकेगा. इसका अधिकतम वजन 13 लाख पौंड तक हो सकता है.

इस हवाईजहाज की ऊंचाई 50 फीट यानी ये छह मंजिला इमारत जितना ऊंचा होगा. इस जहाज में 28 पहिए और छह 747 जेट इंजन हैं. इस हवाईजहाज को खड़ा करने के लिए 60 मील जितनी जगह चाहिए होगी. करीब से देखने पर ये किसी पहाड़ के जैसा दिखता है. किसी भी देश में इसे उतारने के लिए विशेष हवाईपट्टी और हैंगर बनाने होंगे. सिएटल सीहॉक के मालिक एलेन ने ये हवाईजहाज ऑर्बिटल एटीके नामक सैटेलाइन बनाने वाली कंपनी के साथ मिलकर इसका निर्माण किया है.

इस हवाईजहाज में एक हजार पाउंड का रॉकेट लगा है जो छोटे-मोटे उपग्रह को अंतरिक्ष में भेजने में सक्षम है. करीब 35 हजार फीट की ऊंचाई पर पहुंचने पर ये रॉकेट अपने से अंतरिक्ष में “एयर लॉन्च” हो जाएगा. कंपनी के अनुसार “एयर लॉन्च” छोटे-मोटे उपग्रह अंतरिक्ष में भेजने का सबसे सस्ता और सुगम तरीका होगा.

बुधवार को जारी बयान में स्ट्रैटोलॉन्च के सीईओ ज्यां फ्लॉयड ने कहा कि उनकी कंपनी ग्राहकों को लचीली सुविधाएं देने के व्यापक विकल्पों पर विचार कर रही है. फ्लॉयड ने कहा कि आने वाले हफ्तों और महीनों में वो इस हवाईजहाज के जमीनी परीक्षण करेंगे. दुनिया में अपनी तरह के इस पहले विमान का पहला लॉन्च प्रदर्शन 2019 के शुरूआत तक होने की संभावना है. इस दौरान इसमें यात्रा के दौरान इसके पायलट, क्रू और स्टाफ इत्यादि की सुरक्षा से जुड़े परीक्षण किए जाएंगे.