Home मिडिल ईस्ट तुर्कियों में उर्दू से बढ़ रही मुहब्बत, स्कूली बच्चों को मिला भारतीय...

तुर्कियों में उर्दू से बढ़ रही मुहब्बत, स्कूली बच्चों को मिला भारतीय भाषा सीखने का मौका

तुर्की के शिक्षा मंत्रालय ने अपने स्कूल के पाठ्यक्रम को बदल दिया है, तुर्की देश में 18 मिलियन प्राथमिक और उच्च विद्यालय हैं, इन विद्यालय के छात्रों को उर्दू और मलय सीखने का एक मौका दिया गया है, अब तुर्की पाठ्यक्रम में उर्दू और मलय भाषा का उपयोग एक वैकल्पिक भाषाओँ के रूप में किया जायेगा.

मलय, जिसे 280 मिलियन के आस-पास लोग साउथ एशिया में बोलते हैं और ‘उर्दू’ जो पाकिस्तान की मुख्य भाषा है, यह भाषाएँ सीखने का तुर्की के छात्रों को एक अवसर दिया जा रहा है. यह कदम चीनी, कोरियाई और फारसी शामिल करने के लिए राज्य के प्राथमिक और उच्च विद्यालयों में दी जाने वाली भाषाओं के विस्तार का अनुसरण करता है.

शिक्षा मंत्रालय से अल्पासन डर्मस ने कहा “कि नए पाठ्यक्रम की तैयारी में विशेषज्ञों, शिक्षकों, अभिभावकों और छात्रों से प्रतिक्रिया का उपयोग किया गया है. उन्होंने कहा की “हमें यह जानना बेहद जरुरी होगा की पाठ्यक्रम एक जीवित है, श्वास लेने वाली चीज है, जिसे नियमित रूप से अपडेट करने की आवश्यकता है.”

उन्होंने बताया कि “इसका उद्देश्य जानकारी को अधिक प्रभावी बनाने के दौरान लोड को हल्का करना था.”

उन्होंने कहा की “क्रांतियां कभी आसान नहीं होती हैं, हमें यह भी स्वीकार करना होगा कि कुछ श्रेणियों में, हम असफल हुए हैं, गणितीय प्रतिभाशाली मिलेटस के थेल्स  त्रिकोणमिति नहीं जानते थे और हम इसे अपने बच्चों को पढ़ाने पर जोर देते हैं, इसे बदल नहीं सकते क्योंकि गणितज्ञ इसके खिलाफ हैं, कुछ लोग बस यह नहीं कह सकते हैं कि विश्वविद्यालयों में इंजीनियरिंग पढ़ाने वाले लोगो को  त्रिकोणमिति सीखना चाहिए.”

उन्होंने कहा कि प्रतिरोध के बावजूद, वे लगभग 20% से 60% सरल बनाने में सक्षम थे, उन्होंने आगे कहा की “व्यापक सरलीकरण के लिए, हमें मानसिकता में बदलाव की आवश्यकता है और हम वहां नहीं हैं.”

जिहाद की अवधारणा के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि “यह पाठ्यक्रम में शामिल करना स्वाभाविक है.”

“शिक्षा का उद्देश्य ग़लत अवधारणाओं को सुधारना है, हम जिहाद के लिए भी ऐसा करेंगे”. “जिहाद का उल्लेख कुरान में कई बार हुआ है, पहले मसौदे में जिहाद को छठे और नौवीं कक्षा में शामिल किया गया था, क्योंकि छठवीं कक्षा बहुत जल्द है और नौवीं कक्षा बहुत ही पैक किया गया है, हमने 11 वीं कक्षा में जिहाद की अवधारणा को सिखाने का फैसला किया है, हमने इस तथ्य को रेखांकित किया है कि इस्लाम में जिहाद का पूरी तरह से मतलब युद्ध नहीं है, बल्कि इसका मतलब यह है कि लोगों को बुराई पर अपना मुकाबला करने का प्रयास करना चाहिए.”

उन्होंने कहा कि देश के संस्थापक मुस्तफा केमाल अतातुर्क के बिना कोई पाठ्यक्रम पूरा नहीं होगा.