Home अफ्रीका इंसानियत हुई शर्मसार, यहाँ भेड़-बकरियों की तरह बिक रहे है लोग

इंसानियत हुई शर्मसार, यहाँ भेड़-बकरियों की तरह बिक रहे है लोग

World News Arabia Published Date: 28-12-17 Time:11.42 PM

आखिर क्या गुनाह है अफ्रीका की महिलाओं, पुरुषों और बच्चों का जो उनके साथ इतना बद्दतर सुलूक किया जा रहा है. तो फिर उन्हें भेद-बकरियों की तरह क्यों बेचा जा रहा है. अपना भविष्य बेहतर बनाने के यूरोप की तरफ बढने वाले इन लोगों को ने रोक लिया और अब इन्हें बंधी बनाया जा रहा है.

इस बात पर यकीन करना थोडा मुश्किल है की इंसानों को किसी सामान या भेड़-बकरियों की तरह बेचा जा रहा है. वहां इंसानों को किसी माल की तरह बेचा जा रहा है और इनके खरीदार भी कम नहीं है. इन अफ्रीकी लोगों की कीमत कम से कम 400 डॉलर लगाई जा रही है.

 

यहाँ कीमतें भी लोगों की उम्र के मुताबिक ही लग रही है, और लीबियाई लोग ही कीमतें तय कर रहे है, वाह! यह नज़ारा पहले कभी न देखा था जो आज देखने को मिल रहा है. क्या इंसानियत पूरी तरह खत्म हो चुकी है?

सीएनएन न्यूज़ चैनल के जारी किये गए वीडियो में कथित रूप से यह दिखाया भी गया कि युवा लड़के औसत दाम में बड़ी जल्दी बिक जाते हैं. नीलामी करने वाले एक शख्स ने अपने विज्ञापन में पश्चिमी अफ्रीका के एक समूह का हवाला देते हुए बताया है.

source: AP photo

विज्ञापन कहा जा रहा है कि खेत में काम करने के लिए मजबूत लड़कों की ज़रूरत है. इंसानियत के खिलाफ ऐसे अपराध किये जा रहे हैं और अधिकारों के लिए लड़ने वाले लोग और सरकारें खामोश से तमाशा देख रहे है.

इन लोगों में ज्यादा युवा नाइजर, घाना और नाइजीरिया से आये है. यूरोप पहुंचने के लिए उन्हें खतरनाक रास्ता लेना होगा. बेहतर ज़िन्दगी हासिल करने के लिए उन्हें भूमध्यसागर पार करना होगा.

नाइजीरिया अफ्रीका की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है. दुनिया भर के तेल उत्पादकों की सूची में यह 13वें स्थान पर आता है. यहाँ से हर रोज़ 20 लाख बैरल तेल निकाला जाता है. वहीँ नाइजर में भले ही तेल का उत्पादन कम हो, लेकिन वह भी अपने नागरिकों की देखभाल कर सकता है. तेल से समृद्ध एक और देश घाना भी इन दिनों बुरी तरह से गरीबी की चपेट में है.