Home मिडिल ईस्ट रूस से न हो टकराव, इसीलिए नाटो से निकलना चाहता है फ्रांस

रूस से न हो टकराव, इसीलिए नाटो से निकलना चाहता है फ्रांस

फ्रांस में आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए वामपंथी उम्मीदवार जान लोक मीलानशोन ने सीरिया पर हालिया अमरीकी मीजाइल हमले को अपराधिक क़दम बताते हुए इसको ग़ैर जिम्मेदाराना बताया, और इस बारे में ट्रम्प के फैसलो को एक बड़ी भूल बताया और ज़ोर दिया, कि मैं चाहता हूँ कि फ़्रांस को रूस के साथ किसी भी टकराव से बचने के लिए नाटो से निकल जाना चाहिए।

अश्तोद प्रेस के अनुसार जान ने मारसी शहर में अपने चुनाव भाषण में अपने समर्थकों के सामने बोलते हुए सीरिया पर अमरीकी हमले के सिलसिले में ट्रम्प के फैसले की निंदा की और कहाः “सीरियन सैन्य अड्डे पर अमरीकी मीज़ाइल हमला केवल तनाव बढ़ाएगा और मैं चाहता हूँ कि फ़्रांस के रूस से किसी भी प्रकार के टकराव से बचने के लिए नाटो से निकल जाना चहिए।”

फ्रेंच राष्ट्रपति चुनाव के लिए कट्टरपंथी दक्षिणपंथी उम्मीदवार मारिन लूपेन के प्रमुख विरोधी जान मीलानशोन ने कहाः अगर आप शांति चाहते हैं तो अलग व्यक्ति को वोट न दें।

एरना की रिपोर्टे के अनुसार फ्रांस में 23 अप्रैल और 7 मई को राष्ट्रपति पद के लिए वोटिंग होने वाली है।

उल्लेखनीय है कि 4 अप्रैल को सीरिया के अदलिब के ख़ान शैख़ून शहर पर रसायनिक हमला हुआ, और अमरीका ने बिना किसी सुबूत के इस हमले के लिए सीरिया सरकार को दोषी क़रार दे दिया, और गुरुवार रात को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और अमरीकी कांग्रेस की अनुमति के बिना ट्रम्म के आधेश से 59 क्रूज़ मीज़ाइलों से हुम्स के अलशईरात हवाई अड्डे को निशाना बनाया गया।