Home मिडिल ईस्ट गाज़ा की नाकेबंदी के खिलाफ फिलिस्तीनी महिलाओं ने किया प्रदर्शन

गाज़ा की नाकेबंदी के खिलाफ फिलिस्तीनी महिलाओं ने किया प्रदर्शन

फिलिस्तीन की महिलाओ ने आज रविवार को कतर के परेशान लोगो से एकजुटता और गाजा की निरंतर घेराबंदी की निंदा करते हुए विरोध प्रदर्शन किया और फिलिस्तीन के स्वतंत्र होने तक प्रतिरोध करने का आग्रह किया।

गाजा की समाचार एजेसी अनातोलिया के अनुसार गाजा पट्टी मे विधान परिषद् भवन के सामने दर्जनो फिलिस्तीनी महिलाओ ने विरोध प्रदर्शन करते हुए 10 वर्षो से अधिक गाजा पट्टी की घेराबंदी और इजरायल के खिलाफ गगनभेदी नारे लगाए।

महिला प्रदर्शनकारियो ने अपने हाथो मे फिलिस्तीन और कतर के झंडे ले रखे थे और कतर की जनता के साथ अपनी एकजुटता को बैनर पर लिख कर घोषणा करते हुए उनका कहना था कि गाजा पट्टी की घेराबंदी करने वालो को आत्मसमर्पण करना चाहिए।

गाजा पट्टी मे फिलिस्तीनी विधान परिषद् के प्रमुख अहमद बहर ने कहा, गाजा पट्टी की इस घेराबंदी ने गजजा पट्टी के लोगो के जीवन के सभी पहलुओ को प्रभावित किया है।

उन्होने कहा कि घेराबंदी मे जितनी कठोरता आएगी फिलिस्तीनी जनता प्रतिरोध हथियारो को जमीन पर नही रखेगी और हम अपनी भूमि के स्वतंत्र होने तक प्रतिरोध जारी रखेगे।

हमास आंदोलन की महिला इकाई की प्रमुख रजा अल हलबी ने कहा, गाजा पट्टी की घेराबंदी कठोर हो रही है और इस क्षेत्र के निवासीयो को कठिनाइयो  मे जीवन व्यतीत कर रहे है।

उक्त रिपोर्ट के अनुसार इजरायल ने 2007 मे फिलिस्तीनी इस्लामिक प्रतिरोध आंदोलन (हमास) की जीत के पश्चात इजरायल ने लगभग दो मिलियन वाले इस क्षेत्र की घेराबंदी कर रखी है जिसके कारण क्षेत्र मे जनता बेरोजगारी की मार झेल रही है।

हलबी ने कतर की नाकाबंदी की भी निंदा करते हुए इस्लामी देशो के नेताओ को संबोधित करते हुए कहा कि तुम ने कतर पर आतंकवाद का समर्थन करने का आरोप लगाया। कौनसे आतंकवाद की बात करते हो? कतर ने गाजा का मार्ग प्रशस्त किया, आवासीय भवनो का निर्णाण किया, या गाजा पट्टी के लिए मानवीय सहायता प्रदान की। सऊदी अरब, अमीरात और बहरैन द्वारा आतंकवाद का समर्थन करने का आरोप लगाते हुए दोहा से अपने राजनयिक नाता तोड़ते हुए अपनी सीमाओ को बंद कर दिया।