Home मिडिल ईस्ट फिलिस्तीनी ब्लॉगर ने इजराइली “ब्रांड एंबेसडर” की वजह से ब्यूटी अवार्ड लेने...

फिलिस्तीनी ब्लॉगर ने इजराइली “ब्रांड एंबेसडर” की वजह से ब्यूटी अवार्ड लेने से किया इनकार

source: The Hoya

Muslimgirl.com की संस्थापक अमानी अल-खताहतबे ने इज़राइली अभिनेत्री के “ब्रांड एंबेसडर” होने की वजह से Revlon’s चेंजमेकर पुरस्कार लेने से इनकार कर दिया.

मुस्लिम महिलाओं के लिए आवाज उठाने वाली और उनके हक में लड़ने वाली एक  वेबसाइट की संस्थापक ने ब्यूटी कंपनी Revlon (रेवलॉन) से  ब्यूटी पुरस्कार लेने से इनकार कर दिया है क्योंकि इजरायल की अभिनेत्री गैल गदोत कंपनी के नए विज्ञापन की ब्रांड एंबेसडर हैं.

द चेंजमेकर अवार्ड, जो कंपनी के लाइव बोल्डली अभियान को मनाता है. मुस्लिम महिलाओं के समर्थन में अमानी अल-खताहतबे को दिया गया था.

हालांकि, मंगलवार को इन्सटाग्राम पर पोस्ट करते हुए खताहतबे ने कहा कि वह इस पुरस्कार को स्वीकार नहीं कर सकती हैं. क्योंकि गदोत जो पूर्व इजरायली सेना की सैनिक थी और उन्होंने गाज़ा के 2014 के बमबारी हमलों में इजराइल का समर्थन किया था. वह Revlon ब्यूटी कंपनी की ब्रांड एंबेसडर है.

source: Instagram

खताहतबे ने लिखा कि, “गदोत का मौखिक समर्थन इजरायली रक्षा बलों के साथ है जो फिलिस्तीन में Muslimgirl.com के सिद्धांतों और मूल्यों के खिलाफ है.”

मैं बहुत ही खुश हूँ और गर्व महसूस कर रही हूँ क्यूंकि मैंने यह पुरस्कार लेने से इनकार कर दिया है. उन्होंने 16 वर्षीय फिलिस्तीनी एक्टिविस्ट (कार्यकर्ता) अहद तमीमी की गिरफ़्तारी पर भी नाराज़गी ज़ाहिर की, जो अभी भी इजराइल की जेल में बंद है.

खताहतबे ने कहा कि, “हम ऐसे रोल मॉडल को स्वीकार नहीं कर सकते हैं जो दुनिया के दूसरे हिस्सों में महिलाओं और लड़कियों के उत्पीड़न का समर्थन करते हैं.”

आपको बता दें कि पिछले हफ्ते Revlon ने गदोत को अभियान के लिए ब्रांड एंबेसडर बनाया था. जिसका उद्देश्य उन्होंने कहा था कि “महिलाओं को जुनून, आशावाद, शक्ति और शैली के साथ खुद को अभिव्यक्त करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए.”

Revlon ने कहा कि गदोत से अच्छी भूमिका महिलाओं के लिए और कोई नहीं निभा सकता. आपको बता दें कि, गदोतने 2014 में इजरायल और गाज़ा के बीच संघर्ष के दौरान अपने फेसबुक पेज के इजराइल रक्षा बलों के समर्थन का संदेश शेयर किया था, जिसमें  2,200 फिलीस्तीनियों की मौत हो गई, 20,000 घरों को बर्बाद कर दिया गया और 500,000 गाज़ा निवासियों ने अपने घर खो दिए थे.