Home मिडिल ईस्ट बैतुल मुक़द्दस पर मुस्लिम देश, अमेरिकी राजदूतों को तलब कर लगा रहे...

बैतुल मुक़द्दस पर मुस्लिम देश, अमेरिकी राजदूतों को तलब कर लगा रहे लताड़

बैतुल मुक़द्दस को इसराइल की राजधानी घोषित करने के फैसले से डोनाल्ड ट्रम्प चारों तरफ से घिरते नज़र आ रहे हैं, एक तरफ जहाँ अरब तथा मिडिल ईस्ट के देशों में विरोध के सुर बढ़ते जा रहे हैं वहीँ पश्चिमी देशों में भी ट्रम्प के इस कदम की आलोचना की जा रही है, यहाँ तक की पूर्व प्रेसिडेंट बराक ओबामा ने यह तक कह डाला की अमेरिका की गद्दी पर एक हिटलर बैठ गया है.

इस्लाम धर्म के तीसरे सबसे पवित्र शहर अल-कुद्स यानि जेरुसलम को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा यहूदियों को सौंपे जाने की कोशिश से मुस्लिम दुनिया भड़क उठी.

ट्रम्प के जेरुसलम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देने और अमेरिकी दूतावास को तेलअवीव से जेरुसलम शिफ्ट करने को लेकर मुस्लिम देशों ने विरोध जताने के बाद अब अमेरिकी राजदूतों को तलब कर लताड़ना शुरू कर दिया है.

स्पूतनिक समाचार एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार ट्यूनीशिया की सरकार ने शुक्रवार को अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प के बयान पर आपत्ति जताते हुए अमरीकी राजदूत को विदेशमंत्रालय में तलब किया और उन्हें आपत्ति पत्र सौंपा.

ट्यूनीशिया के विदेशमंत्रालय ने एक बयान जारी करके बैतुल मुक़द्दस को इस्राईल की राजधानी क़रार देने के ट्रम्प के फ़ैसले का विरोध करते हुए कहा कि ट्रम्प का यह फ़ैसला, बैतुल मक़द्दस की क़ानूनी और एेतिहासिक हैसियत पर हमला और अंतर्राष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन है.

इराक़ के विदेशमंत्रालय ने भी बग़दाद में तैनात अमरीकी राजदूत को तलब करके ट्रम्प के फ़ैसले का विरोध किया और कहा कि बैतुल मुक़द्दस समस्त मुसलमानों और फ़िलिस्तीनियों का है. इसके अलावा भी कई देशों ने अमेरिकी दूतावास को तलब किया है.