Home मिडिल ईस्ट इसरायली मंत्री ने दिया अपने देश के बारे में बड़ा बयान

इसरायली मंत्री ने दिया अपने देश के बारे में बड़ा बयान

इस्राईल ऊर्जा और विकास मंत्री यूवाल स्टीनियटज़ ने एक साक्षात्कार में कहा है कि: सीरिया में युद्ध समाप्त होने के बाद ईरान इस देश में पहले से अधिक शक्तिशाली हो जाएगा और इस्राईल इस बात से परेशान है।

उन्होंने दावा किया है कि: सीरिया में युद्ध खत्म होने के बाद ईरान के इस देश में शक्तिशाली होने से तुर्की और अरब देशों भी परेशान हैं और इस्राईल भी नहीं चाहता है कि ईरान उसकी सीमाओं तक पहुँच जाए।

स्टीनियटज़ ने कहा: इस युद्ध के बाद ईरान के सीरिया में स्थायी रूप से उपस्थित होने से मध्य पूर्व का परिदृश्य बदल जाएगा, और अरब देश ईरान से घिर जाएंगे जबकि इस्राईल जॉर्डन और बाकी देशों नहीं चाहते हैं कि ईरान उनकी सीमाओं तक पहुँच जाए।

स्टीनियटज़ ने कहा है कि: सीरिया में दो कठिनाइयां हैं, एक दाइश और दूसरा ईरान की उपस्थिति।

इस इस्राईली मंत्री ने कहा है: ईरान अब भी हमास, हिजबुल्लाह के रूप में इस्राईल के उत्तर में मौजूद है और अब सीरिया में दाइश की हार के बाद ईरान खुद इस देश की सीमाओं तक पहुंच जाएगा, जो तेल अवीव नहीं चाहता है।

गौरतलब है कि इस्राईली मंत्री ने यह बयान ऐसे हालात में दिया है कि जब अमरीका ने घोषणा की है कि उनका पहला लक्ष्य बशार असद की सरकार को गिराना नहीं है बल्कि दाइश का विनाश है।

संयुक्त राष्ट्र में अमरीका की राजदूत “नेकी हेली” ने गुरुवार को यह घोषणा की थी कि अमरीका की पहली प्राथमिकता बशार असद की सरकार हटाना नहीं है।

इस राजदूत के अनुसार अमरीका का पहला उद्देश्य यह है कि अपने काम को कैसे और किसके साथ मिलकर करे ताकि सीरियाई जनता के हालात बेहतर हो सकें।

नेतनयाहू सरकार ने पिछले सप्ताह में सीरिया युद्ध समाप्त होने बशार असद के सरकार में रहने और ईरान के इस देश में शक्तिशाली होने पर अपनी चिंता व्यक्त की है।

नेतनयाहू ने मास्को यात्रा में रूसी राष्ट्रपति पुतिन के साथ बैठक में ईरान के इस्राईल सीमाओं के पास पहुँच जाने की परेशानी से रूसी अधिकारियों को सूचित कर दिया था।

उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह में सीरिया के शहर रक्क़ा में दाइश के खिलाफ ऑपरेशन के लिए वार्ता कर रहे हैं और उनमें से महत्वपूर्ण गुरुवार को अमेरिकी विदेश मंत्री “किस टीलरसन” की अंकारा में इस देश के अधिकारियों से मुलाकात है।