Home मिडिल ईस्ट सिर्फ 2017 में इजराइल ने मस्जिद-अल-अक्सा पर किए 40 हमले

सिर्फ 2017 में इजराइल ने मस्जिद-अल-अक्सा पर किए 40 हमले

source: Wikipedia

फिलिस्तीन के औक़फ और धार्मिक मामलों के मंत्री ने रविवार को कहा कि इज़राइल ने 2017 में मस्जिदों और चर्चों पर 1,000 से ज्यादा बार हमले किये है.

रामल्लाह में सरकार के प्रेस सेंटर में बोलते हुए, यूसुफ़ अदिस ने कहा कि ख़ास तौर से जेरुशलम की सबसे पवित्र मस्जिद-अल-अक्सा परिसर में एक महीने में 40 से अधिक हमले कर चुका है.

यहूदी निवासियों ने अपने पवित्र पाठ तलमुद को मस्जिद में सुनाया, उन्होंने कहा, पवित्र परिसर में अक्सर घुसपैठ की जाती है. उन्होंने कहा कि पूर्वी येरुशलम और वेस्ट बैंक में स्थित मस्जिदों को 12 बार हमले किये गए जबकि कब्रिस्तान में 15 बार हमले किये गए थे.

यूसुफ ने बताया कि, इज़राइली सरकार ने अल-खलील (हेब्रोन) में इब्राहिमी मस्जिद को 2017 में 645 बार अज़ान पढने से रोका था.

उन्होंने कहा कि मस्जिद मुसलमानों के लिए बंद कर दिया जाता था और यहूदियों के लिए खोला जाता था. उन्होंने कहा कि मस्जिद के मुख्य दरवाज़े पर आवाजाही को पूरी तरह से रोक दिया गया था. पुनर्स्थापना की इजाज़त नहीं दी थी और क्षेत्र में निगरानी के लिए कैमरे लगाए गए थे.

source: Daily Sabah

यूसुफ ने यह भी कहा कि नासिरा में स्थित कैथोलिक सेल्सियन चर्च पर भी उत्तरी इज़राइल ने हमला किया गया था और बहुत सी अपमान जनक बातें चर्च की दीवार पर लिख दी थी.

इस क्षेत्र में पवित्र स्थलों की अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा देने की मांग करते हुए, यूसुफ ने कहा कि इजरायली सरकार और यहूदी लोग मस्जिद-अल-अक्सा को गिराने और इसकी जगह सोलोमन का मंदिर बनाना चाहते है.

हाल के सालों में, इजरायल के अधिकारियों ने यहूदी लोगों को मस्जिद परिसर में आने की इजाज़त दी थी. आम तौर पर मगरबा गेट के माध्यम से जहाँ लगातार यहूदियों की तादाद बढती जा रही है.

मस्जिद-अल-अक्सा के परिसर में यहूदी घुसबैठ करते है, मक्का और मदीना के बाद मस्जिद-अल-अक्सा ही मुसलमानों का तीसरा सबसे पवित्र स्थल है.