Home मिडिल ईस्ट समीक्षा- क्या जंग का विरोध करने की कीमत चुका रहा है मिस्त्र?

समीक्षा- क्या जंग का विरोध करने की कीमत चुका रहा है मिस्त्र?

अररौज़ा मस्जिद पर हमला कई आयाम से समीक्षा योग्य है।

यह इराक़ और सीरिया में दाइश के अंत के बाद पहला आतंकवादी हमला है जो यह दर्शाता है कि दाइश के अंत का अर्थ आतंक व हिंसा का अंत नहीं है बल्कि हिंसा पैदा करने की उन लोगों की पुरानी टैक्टिक जारी रहेगी जिसे अलअज़हर यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर अहमद अलख़तीब ने रात को उड़ने वाले चमगादड़ की संज्ञा दी है।

अलअरीश में हुए आतंकवादी हमले का एक बड़ा कारण यह है कि मिस्री राष्ट्रपति उन अरब देशों में हैं जिन्होंने पिछले दो हफ़्ते के दौरान पश्चिम एशिया में ख़ास तौर पर लेबनान के ख़िलाफ़ नई जंग छेड़ने का विरोध किया है। हालांकि सऊदी और ज़ायोनी शासन यह सोच रहे थे कि लेबनान और हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ साज़िश में मिस्री सरकार उनका साथ देगी।

अररौज़ा मस्जिद में आतंकवादी हमले का यह संदेश हो सकता है कि इराक़ और सीरिया में आतंकवादी तत्वों ने अपने संगठनात्मक पतन के बाद भौगोलिक दृष्टि से अपना स्थान बल दिया है। उत्तरी अफ़्रीक़ा इन आतंकवादी गुटों के लिए भूमिगत गतिविधियों के लिए उचित स्थान हो सकता है।

इसके साथ ही मिस्री सरकार की प्रतिक्रिया उत्तरी अफ़्रीक़ा में आतंकवादी गुटों के ख़िलाफ़ नया मोर्चा खुलने की पृष्ठिभूमि बन सकती है। अब्दुल फ़त्ताह सीसी की ओर से रौज़ा मस्जिद में हुए अपराध की प्रतिक्रिया में शहीदों के ख़ून का बदला नामक कार्यवाही का एलान, उत्तरी अफ़्रीक़ा में आतंकवाद के ख़िलाफ़ नए मोर्चे के खुलने का आरंभिक बिन्दु हो सकता है कि जिसका नेतृत्व मिस्र के हाथ में होगा जो सबसे बड़ी अरब सेना का स्वामी है।

इसका एक और कारण भी कहा जा रहा है, ध्यान दें की इजराइल की सीमा से लगे जितने भी मुल्क है. इस समय सभी मुल्कों में उथल पुथल की स्थिति है, चाहे वो लेबनोन हो या फिर सीरिया, मिस्त्र हो या कुछ दूर स्थित सऊदी अरब. सभी मुल्कों में लगभग तख्तापलट की स्थिति कई दफा आ चुकी है और अभी भी लगातार हलचल जारी है. तो यह समझा जाए की शायद कोई महत्वकांशी योजना बहुत तेज़ी से इस क्षेत्र में कार्य कर रही है. कुछ लोगो का मानना है भी है की इजराइल की परियोजना जिसमे विस्तृत इजराइल भी शामिल है उसी मुहीम के तहत सिर्फ उन्ही देखों को निशाना बनाया जा रहा है जिनकी सीमा इजराइल से मिलती है तथा जहाँ वो विस्तार करने का इच्छुक है.