Home मिडिल ईस्ट सियासतों के गुनाह झेलते यमन में भुखमरी से मरने की कगार पर...

सियासतों के गुनाह झेलते यमन में भुखमरी से मरने की कगार पर पूरा देश

युद्ध की विभीषिका कितनी भयंकर होती है, इसके उदाहरण तो कई देखने को मिलेंगे लेकिन निर्दोष आम जनता का तिल-तिल कर मरना क्या होता है, ये यमन की जनता को देख कर साफ़ महसूस होता है. भयानक रूप से कुपोषित, खाने-पानी की कमी से जूझ रहे इस देश में एक पूरी पीढ़ी अपंग होने की कगार पर है. इनका गुनाह सिर्फ इतना है कि ये युद्ध के शिकार हुए देश के वासी हैं.

photo – AP

पिछले 18 महीने के दौरान 10,000 से ज्यादा लोग मारे गए हैं. 14 लाख से ज्यादा लोग भूखे रहते हैं और इनमें से आधे भूख से मर रहे हैं.

photo – AP

यहाँ नवजात बच्चों को माँ का दूध तक उपलब्ध नहीं है क्योंकि कुपोषित, कमज़ोर माएं बच्चों को दूध पिलाने में असमर्थ हैं. ऐसे बच्चे चीनी के पानी पर जिंदा रहने को मजबूर हैं.

photo – AP

यमन कभी अपनी ज़रूरतों का 90 प्रतिशत हिस्सा आयात के माध्यम से पूरा करता था, आज इसके भोजन-पानी की 30 प्रतिशत भी ज़रूरत पूरी नहीं हो पा रही.

photo – AP

मध्य पूर्व में डब्ल्यूएफपी के प्रमुख मुहन्नाद हाडी ने कहा: “हर रोज़ भूख बढ़ती जा रही है और लोगों ने अपने जीवित रहने की सभी उम्मीदों को समाप्त कर दिया है.

photo – AP

इस देश में खाने और पानी की भारी कमी के कारण लोग घास खाकर और समुद्र का पानी पी कर जिंदा रह रहे हैं.

photo – AP

ऐसे कई किशोर हैं जो भयानक कुपोषण का शिकार हो गए हैं, और अस्पतालों में उनका इलाज हो रहा है.

photo – AP

पांच साल से कम उम्र के अधिकाँश बच्चे तीव्र कुपोषण से पीड़ित हैं, इन बच्चों को तत्काल बेहतर इलाज की ज़रूरत है. यमन में 1.5 मिलियन बच्चे कुपोषण से पीड़ित हैं.