Home मिडिल ईस्ट मिस्र में अब नहीं रखे जा सकेंगे पश्चिमी सभ्यता से प्रेरित नाम

मिस्र में अब नहीं रखे जा सकेंगे पश्चिमी सभ्यता से प्रेरित नाम

मिस्र में जल्द ही बच्चों केऐसे नाम रखने पर रोक लग सकती है जो पाश्चात्य संस्कृति से प्रभावित हैं. अगले मंगलवार को मिस्र की संसदीय समिति इससे जुड़े कानून पर पर चर्चा करेगी. इस कानून के तहत माता-पिता अपने बच्चों के पश्चिमी मुल्कों में प्रचलित नाम नहीं रख सकते. अगर ऐसा होता है तो उन्हें 270 डॉलर (17380 रुपये) जुर्माना और 6 महीने की जेल की सजा हो सकती है.

मिस्र के सांसद बेदियर अब्देल अजीज ने इस कानून का प्रस्ताव दिया है. उन्होंने संसदीय समिति से कहा है कि लारा, मार्क और सैम, जेस्सी जैसे नामों का उच्चारण करना अरबी बोलने वालों के लिए मुश्किल होता है, इसलिए इन पर बैन लगना चाहिए.

अजीज ने कहा कि इस तरह के पश्चिमी नामों का इस्तेमाल करना और अरबी नामों को छोड़ना हमारे समाज और संस्कृति में अनचाहा बदलाव लाएगा. हमारे बच्चे अपनी पहचान से जुड़े नहीं रह सकेंगे. हालांकि, अजीज के इस प्रस्ताव का मिस्र में कई लोग विरोध भी कर रहे हैं. अगर यह कानून पास हो जाता है तो मिस्र पश्चिमी नामों को बैन करने वाला पहला देश नहीं होगा. सऊदी अरब में अलाइस, लिंडा और इलेन जैसे 50 नामों पर 2014 में ही प्रतिबंध लगा दिया गया था.