Home हेल्थ सफर में वोमिटिंग और जी घबराने से है परेशान, तो यहाँ पढ़े...

सफर में वोमिटिंग और जी घबराने से है परेशान, तो यहाँ पढ़े इसका इलाज

बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जिन्हें सफर में बहुत ज़्यादा उलटी चक्कर लगते हैं, या फिर वो पूरे सफर में उलटी करते हुए जाते नहीं, जिसके कारण उनका सफर सुहाना होने के बजाए डरावना हो जाता हैं, कई लोग तो बिलकुल बेसुध हो जाते हैं जिसके कारण वो सफर करने से डरने लगते हैं, और कही भी आने जाने से जी चुराने लगते हैं, इस प्रकार की समस्या को मोशन सिकनेस या ट्रैवेल सिकनेस कहा जाता हैं, इसमें व्यक्ति को सफर करते वक़्त इन दिक्कतों का सामना करना पड़ता हैं.

ऐसा औरतों के साथ या लड़कियों के साथ अक्सर होता है एक तो वो पहले ही मन में धारण कर लेती हैं की उन्हें समस्या होगी ही और दूसरे वो अधिकतर विंडो वाली सीट लेती हैं और बाहर देखती रहती है जिस कारण उन्हें वोमिटिंग होती है बाहर देखने के कारण भी उन्हें उलटी होती हैं, इसीलिए वो पूरे सफर में परेशान रहती हैं.

सफर में उलटी से बचने के उपाय:

इलाज डॉट कॉम आज आपको बातयेगा की किस प्रकार आप अपने सफर को बना सकते हैं सुहाना इन नुस्खों से आप अपनी इस दिक्कत से छुटकारा पा सकते हैं.

लौंग का इस्तेमाल:

लौंग के इस्तेमाल से आप उलटी से निजात पा सकते हैं ,5 दाने लौंग, लगभग 25 ग्राम खील, 5 छोटी इलायची और 25 ग्राम मिश्री को आधे लीटर पानी के साथ बनाए और जब यह 10-12 बार उबल जाए जो इसे उतारकर थोड़ी-थोड़ी मात्रा में रोगी को पिलाएं, इससे उल्टी बंद हो जाती है. अगर जी मिचलाता हो तो लौंग को मुंह में रखकर चूसते रहने से मिचली दूर होती है.

नींबू :

नीबू आप आराम से कही भी ले कर जा सकते हैं, वोमिटिंग से पीड़ित रोगी को 250 मिलीलीटर शर्बत में एक नींबू निचोड़कर 2-3 बार पीने से वोमिटिंग बंद हो जाती है, नींबू को काटकर इसमें इलायची का चूर्ण भककर चूसने से वोमिटिंग में आराम मिलता है, वोमिटिंग होने पर नींबू को गर्म करके सेवन नहीं करना चाहिए.

इमली :

इमली को रात में पानी में डालकर रख दें और सुबह इमली को उसी पानी में मसलकर थोड़ा सा सेंधानमक मिलाकर थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पिलाएं, इससे वोमिटिंग आनी बंद हो जाती है.

मली को छिलके सहित जलाने के बाद राख को 10 ग्राम की मात्रा में पीसकर 15 मिलीलीटर पानी में डालकर पिलाएं. इससे वोमिटिंग तुरंत बंद हो जाती है.

पकी हुई इमली को पानी में भिगोकर इसके रस को पीने से वोमिटिंग के रोग में लाभ मिलता है.

सुपारी:

आप सफर में चाहे तो सुपारी आराम से ले कर जा सकते हैं, सुपारी और हल्दी को बराबर मात्रा में पीसकर बारीक चूर्ण बनाकर रख लें, यह 2 ग्राम चूर्ण पानी के साथ लेने से वोमिटिंग बंद हो जाती है, सुपारी और हल्दी के चूर्ण को चीनी के साथ मिलाकर फांकी लेनी चाहिए. इससे वोमिटिंग बंद हो जाती है.

जायफल:

कई बार कब्ज़ होने के कारण भी उलटी होने लगती हैं, कब्ज या अपच के कारण यदि वोमिटिंग आती हो तो 10 ग्राम जायफल के चूर्ण को 1 किलो पानी में उबालकर थोड़ा-थोड़ा पानी रोगी को पिलाएं, यह वोमिटिंग व कब्ज को दूर करता है. वोमिटिंग के रोग से पीड़ित रोगी को जायफल को पानी के साथ पीसकर पिलाना चाहिए.

नमक :

नमक के सेवन से भी आप उलटी को रोक सकते हैं, कालीमिर्च पीसकर नमक के साथ सेवन करने से उल्टी बंद हो जाती है, गर्म पानी में नमक मिलाकर पीने से उल्टी रुक जाती है.

हींग :

हींग पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता हैं, इसके लिए आप इसका इस्तेमाल आप इन नुस्खों से कर सकते हैं. इसके अलावा हींग को पानी में पीसकर पेट पर लेप करने से पेट का गैस नष्ट होता है और उल्टी बंद होती है, 3 ग्राम हींग और 3 ग्राम अनन्तमूल का चूर्ण मिलाकर पानी के साथ खाने से हर तरह की उल्टी बंद होती है. एक ग्राम हींग, 5 ग्राम बहेडे का छिलका और 4 लौंग को एक साथ पीसकर एक कप पानी में मिलाकर पीने से उल्टी रुक जाती है.