Home अरब देश सऊदी अरब में रिटायरमेंट की उम्र तक नौकरी तलाश रही हैं महिलाएं

सऊदी अरब में रिटायरमेंट की उम्र तक नौकरी तलाश रही हैं महिलाएं

जेद्दाह: 2016 की अंतिम तिमाही को कवर करती रिपोर्ट के अनुसार, सऊदी अरब में पुरुषों की अपेक्षा नौकरी तलाशने वाली महिलाओं की संख्या तीन गुनी है. जनरल अथॉरिटी ऑफ़ स्टेटिस्टिक्स की रिपोर्ट के अनुसार, नौकरी तलाशने वाले पंजीकृत लोगों में महिलाओं की संख्या 80.6 प्रतिशत अधिक है. इससे साफ़ संकेत मिलता है कि एक शिक्षित महिला को भी सार्वजनिक और निजी, दोनों क्षेत्रों में नौकरी ढूँढने में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.

रिपोर्ट बताती है कि महिलाएं सेवानिवृति की उम्र तक नौकरी की तलाश में हैं. 57 से 66 साल की उम्र में 3,488 महिलाएं नौकरी की तलाश में पंजीयन करवा चुकी हैं. जबकि इस आयुवर्ग में नौकरी तलाशने वाले पुरुषों की संख्या केवल 167 थी.

शौरा काउंसिल की अर्थव्यवस्था और ऊर्जा समिति के प्रमुख अब्दुल रहमान अल राशिद ने कहा कि महिलाओं के करने योग्य नौकरियों में भी पुरुषों द्वारा काम किया जा रहा है और इस तरह महिलाओं के सामने लम्बे समय तक नौकरी तलाशने का एकमात्र विकल्प बचता है.

अल राशेद ने कहा कि हालाँकि श्रम और सामाजिक विकास मंत्रालय कानून के माध्यम से महिलाओं को नौकरी करने के लिए प्रेरित कर रहा है लेकिन अभी भी बड़ी संख्या में महिलाएं बेरोजगार हैं.

अल राशेद भविष्य में महिलाओं के रोजगार को लेकर आशावादी हैं. उन्होंने कहा कि महिला कार्यबल को बढ़ावा देना विज़न 2030 सुधार योजना का एक अनिवार्य हिस्सा है. उन्होंने आगे कहा कि अर्थव्यवस्था में महिलाओं का योगदान महत्वपूर्ण है. और ये वृद्धि महिलाओं के बाज़ार में प्रवेश करने से और मज़बूत हुई है. महिलाओं को बाज़ार में प्रवेश करे हुए थोडा ही समय हुआ है.

जीओएसआई की रिपोर्ट के मुताबिक 2016 की तीसरी तिमाही के अंत में सामाजिक बीमा संगठन के निजी क्षेत्र में सऊदी महिला कर्मचारियों की संख्या 496,800 तक पहुँच गयी थी. 2012 के अंत में 203,088 नौकरीपेशा महिलाओं की तुलना में ये 144.62 प्रतिशत की वृद्धि है. 2015 की तीसरी तिमाही की तुलना में 2016 की तीसरी तिमाही के दौरान महिला रोजगार में 4.1 प्रतिशत की वृद्धि हुई.

सरकार कार्यक्षेत्र में महिलाओं की संख्या 23 प्रतिशत से बढाकर 28 प्रतिशत तक करने की योजना बना रही है. सरकार की योजना 2020 तक बेरोजगारी की दर 9 प्रतिशत तक कम करने की योजना है.