Home अरब देश अमीरात को इको-फ्रेंडली रखने के लिए यह व्यक्ति देगा 100,000 पेड़ों का...

अमीरात को इको-फ्रेंडली रखने के लिए यह व्यक्ति देगा 100,000 पेड़ों का दान

SOURCCE-STEP FEED

संयुक्त अरब अमीरात ने फिर से दिखाया है कि पर्यावरण के अनुकूल भविष्य एक महत्वपूर्ण लक्ष्य है, इसका एक साक्षात उदाहरण एक प्रमुख अमीरात व्यापारी है, जिन्होंने संयुक्त अरब अमीरात में हरियाली लाने की पहल की है.

अल काइडी फार्म के मालिक सलेम अल कायदा ने संयुक्त अरब अमीरात के जायद के वर्ष के लिए प्रोत्साहित करने वाली पहलों के मुताबिक 100,000 पेड़ों को दान देने का वादा किया है.

पेड़ों का आधा हिस्सा, जो विभिन्न स्थानीय किस्मों का होगा, देश के निवासियों और नागरिकों को वितरित किया जाएगा.दूसरे भाग को सार्वजनिक पार्क में लगाया जाएगा.

अल कायदा ने बताया कि उनका यह पर्यावरण दान देश के हित के लिए है और उनका यह लक्ष्य शेख जायद बिन सुल्तान अल नाहयान के लक्ष्य के अनुरूप है और उनका लक्ष्य पर्यावरण को बढ़ावा देकर हर जगह हरियाली लाना है.

विभिन्न पर्यावरण परियोजनाओं को लॉन्च करने से, नवीकरणीय ऊर्जा द्वारा चलाए गए पूरे शहर का निर्माण करने के लिए, अमीरात देश ने पर्यावरण-जागरूक भविष्य को गले लगाने के लिए एक मजबूत प्रतिबद्धता दिखायी है.

अबू धाबी में मसदार सिटी परियोजना 700 हेक्टेयर में फैली हुई है और 2025 तक पूरी हो जाएगी, इसका उद्देश्य सौर ऊर्जा और अन्य अक्षय स्रोतों पर लगभग अनन्य रूप से निर्भर करते हुए, दुनिया के सबसे स्थायी शहरों में से एक होना है, इसका उद्देश्य स्वच्छ तकनीक कंपनियों का केंद्र बनना है और यह केवल स्वच्छ ऊर्जा पर ही काम करेगा.

आबू धाबी ने यह आधिकारिक रूप से लॉन्च किया है जो अगले साल मई में दुनिया का सबसे बड़ा स्वतंत्र सौर ऊर्जा संयंत्र बन जाएगा, उचित तौर पर, इस सुविधा का नाम नूर अबु धाबी होगा.

1,177 मेगावाट बिजली पैदा करने में सक्षम, यह संयंत्र तमिलनाडु के कामुती में भारत के संयंत्र को पार करेगा, जो पिछले वर्ष खोला गया और 648 मेगावाट का उत्पादन करता है, इंडिया प्लांट कैलिफोर्निया में टोपाज़ सोलर फार्म को पार कर चुका है, जिसमें 550 मेगावाट की क्षमता है. स्टेप फीड की खबरों के मुताबिक यूएई प्लांट का 3.2 अरब डॉलर का खर्च आएगा और यह सुवेहान में स्थित होगा और हजारों घरों को बिजली प्रदान करेगा, अधिकारियों का कहना है कि 2019 की दूसरी तिमाही तक इस सुविधा को पूरा करना है.

संयुक्त अरब अमीरात का लक्ष्य है कि “2021 तक नवीकरणीय स्रोतों से अपनी ऊर्जा का 24 प्रतिशत उत्पादन किया जा सके, पिछले साल की शुरुआत में संयुक्त अरब अमीरात के पर्यावरण और जल मंत्री डॉ राशिद बिन फहद ने कहा था कि “देश अपने अक्षय ऊर्जा लक्ष्यों को पार करने के लिए ट्रैक पर है.”

बिन फहद ने कहा था की “हम ना केवल हमारे लिए ऊर्जा के क्षेत्र में काम करते हैं, बल्कि हम दूसरों की मदद करने के लिए भी इस क्षेत्र में काम करना चाहते हैं ताकि हम दूसरों के लिए उदहारण बने और आगे बढ़ सकें.

SOURCE-STEP FEED

स्टेप फीड की खबरों के अनुसार अन्य गल्फ देशों में, सरकारें अक्षय ऊर्जा के मुकाबले भी बढ़ रही हैं , सऊदी अरब, दुनिया के शीर्ष तेल उत्पादक देशों में से एक, का उद्देश्य भी 2023 तक 10 प्रतिशत अक्षय ऊर्जा पर निर्भर रहना है.