Home अरब देश कतर के नागरिकों पर सऊदी सरकार ने लगाया उमराह करने पर प्रतिबंध

कतर के नागरिकों पर सऊदी सरकार ने लगाया उमराह करने पर प्रतिबंध

सऊदी अरब और क़तर के रिश्तों में इतनी खटपटाहट हो चुकी है की अब सऊदी अरब ने क़तर वासियों को उमराह तीर्थयात्रा करने से रोक दिया है, सोशल मीडिया के मुताबिक क़तर वासियों ने सऊदी अरब पर यह आरोप लगाया है.

अल-राय न्यूज़पेपर के मुताबिक, सऊदी अरब मक्का में आने वाले कतरी तीर्थयात्रियों के खिलाफ मनमानी उपायों को ले रहा है. सऊदी अरब और इसके सहयोगी देशों के साथ कतर का यह विवाद जून 2017 में शुरू हुआ, कतरी नागरिकों को सऊदी अरब ने तीर्थयात्रा करने से रोका है, पिछली गर्मियों में, सऊदी अरब, बहरीन, संयुक्त अरब अमीरात और मिस्र ने दोहा के साथ राजनयिक संबंधों को खत्म कर दिया, और गल्फ देशों में पर भूमि, समुद्र और हवा नाकाबंदी लगा दी.

इन चारों देशो ने क़तर पर “आतंकवादी” समूहों को वित्तपोषण करने का आरोप लगाया है और अपने क्षेत्रीय प्रतिद्वंद्वी ईरान के करीब होने का आरोप लगाया है, हालाँकि कतर ने इन सब आरोपों को ख़ारिज कर दिया. अल-राय के मुताबिक, सऊदी अधिकारियों ने पिछले हफ्ते जेद्दाह हवाई अड्डे से कुवैत से 20 कतरी नागरिकों के एक समूह को सुविधा में दो दिन की हिरासत में भेज दिया गया था, जबकि वे उमराह यात्रा के रास्ते पर थे .

आपको बता दें कि उमराह एक तीर्थयात्रा है, यह यात्रा मुसलमान साल के किसी भी वक़्त कर सकते हैं, यह हज यात्रा के जैसे नहीं होती है, जो एक मुकम्मल वक़्त पर की जाती है.

“सऊदी अधिकारीयों ने मुझे रोका है”

ट्विटर पर एक कतरी राष्ट्रीयता वाले नागरिक ने कहा कि “मै 25 दिसम्बर को उमराह करना चाहता था, लेकिन सऊदी अधिकारियों ने मुझे रोक लिया, यह “धार्मिक या नैतिक तरीके से जायज़ नहीं था और इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता था”. हालाँकि रियाद ने अपने उपर लगे इन आरोपों से इनकार  किया है.

ग्रैंड मस्जिद के जनरल प्रेजिडेंसी ने कहा कि “इस खबर में सच्चाई नहीं है की कतर के निवासियों को उमराह में भाग लेने से रोका गया.”

सऊदी अधिकारियों का कहना है कि कई कतरीय तीर्थयात्रियों ने दोनों देशों के कूटनीतिक रिश्तो के बावजूद भी उमराह और अन्य धार्मिक यात्रा में प्रदर्शन किया है.