Home अरब देश सऊदी अरब और यूएस की बैठक में हुई रक्षा मंत्रियों के बीच...

सऊदी अरब और यूएस की बैठक में हुई रक्षा मंत्रियों के बीच हुईं ये ख़ास बातें

वाशिंगटन: सऊदी अरब (saudi arabia) के डिप्टी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान, रक्षा मंत्री को वाशिंगटन की यात्रा के लिए विदा किया गया. अमेरिका में ट्रम्प के राष्ट्रपति चुने जाने के बाद किसी खाड़ी नेता की ये पहली आधिकारिक यात्रा है. इस यात्रा के मुख्य मुद्दे अमेरिका-सऊदी सम्बन्ध, ईरान को अपने साथ जोड़ना और दाएश के खिलाफ कड़े कदम उठाना है.

विदेश मंत्री एडेल अल-जुबेईर ने अमेरिकी विदेश मंत्री रॉक्स टिल्लरसन के साथ एक घंटे की लंबी बैठक के साथ यात्रा शुरू की. फरवरी 16 को जी -20 शिखर सम्मेलन के हाशिये पर जर्मनी में पहली जगह लेने के साथ यह टिलरसन और अल-जुबेइर के लिए एक महीने से भी कम समय की दूसरी बैठक थी.

और पढ़ें: सऊदी अरब एयरपोर्ट जाने वालों के लिए बड़ी खबर

अमेरिकी विदेश विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि यमन और आतंकवाद के प्रयासों में चल रहे संघर्ष सहित कई महत्वपूर्ण द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा करने के लिए सचिव टिल्लरन सऊदी विदेश मंत्री अल-जुबेइर से आज मुलाकात कर चुके हैं. सऊदी अरब के विजन 2030 सुधार कार्यक्रम के लिए आर्थिक और वाणिज्यिक संबंधों को मजबूत बनाना और अमेरिकी समर्थन भी एजेंडे में शामिल है. अल-जुबेइर और टिलरसन के बीच की बैठक में डिप्टी क्राउन प्रिंस की यात्रा से संबोधित होने की उम्मीद थी. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ इस हफ्ते के अंत तक उनकी एक बैठाक होने के कयास लगाये जा रहे थे.

अल जुबैर ने पिछले साल जनवरी में अमेरिका-सऊदी संबंधों को लेकर आशावादी बयान दिए थे. उन्होंने कहा कि हम ट्रम्प के प्रशासन के साथ द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने और बहुत सी चुनौतियों का सामना करने के लिए तत्पर हैं. हम सीरिया या इराक या यमन, लीबिया, आतंकवाद से लड़ने, वैश्विक वित्तीय मुद्दों से निपटने, ऊर्जा आदि अनेक विषयों पर सकारात्मक रुख से देख रहे हैं.

उन्होंने आगे कहा कि ईरान को सम्मिलित किया और उसके कोई दुस्साहसिक कदम उठाने की क्षमता को सीमित किया. ईरान से पत्र पर हस्ताक्षर करवाए और ये सुनिश्चित किया कि वह परमाणु परमाणु समझौते में लिखी बातों का पालन करे. वास्तव में यह हमारी स्थिति है और हम इस क्षेत्र में उनके साथ काम करने की प्रतीक्षा करते हैं.

डिप्टी क्राउन प्रिंस की ये यात्रा और अल जुबैर और टिलरसन के बीच ये बैठक ऐसे वक़्त में हुई है जब ओबामा प्रशासन द्वारा सऊदी अरब को 390 मिलियन डॉलर की शस्त्र बिक्री पर तीन महीने तक लगायी गयी रोक यूएस स्टेट सेक्रेटरी द्वारा एक हफ्ते पहले समाप्त कर दी गयी है. ट्रम्प के 20 जनवरी को कार्यालय में प्रवेश के बाद सऊदी-यूएस संबंधों में अधिक कूटनीतिक तेजी देखी जा रही है. सीआईए के निदेशक माइक पोम्पी ने पिछले महीने रियाध का दौरा किया वहीँ ट्रम्प ने सऊदी किंग सलमान से 29 जनवरी को फ़ोन पर वार्ता की. यूएस रक्षा सचिव जेम्स मैटिस ने भी पिछले महीने डिप्टी क्राउन प्रिंस से फ़ोन पर वार्ता की थी.

इरान को सम्मिलित करना और दाएश को हराना, इन दो मुद्दों पर यूएस-सऊदी बैठकों में ख़ास तौर पर चर्चा की गयी है. रियाध ने दाएश के खिलाफ लड़ाई में विशेष बल तैनात करने की इच्छा जताई है. वहीँ वाशिंगटन ने खाड़ी में अपनी उपस्थिति बढ़ा दी है.

web title – specific things happened between defense ministers held in Saudi Arabia and the US

paragraph – Deputy Crown Prince Mohammad bin Salman of Saudi Arabia (Saudi Arabia), the Minister of Defense was released for a visit to Washington