Home अरब देश सऊदी हर तरह से कर रहा यमन की मदद, फिर देगा 1.5...

सऊदी हर तरह से कर रहा यमन की मदद, फिर देगा 1.5 अरब डॉलर

source: Hiiraan

मरिब, यमन – सऊदी अरब यमन युद्ध से विस्थापित लोगों की हर तरह से मदद कर रहा है. लीमे नाम की एक यमनी महिला, जिन्होंने अपने बच्चे और आठ अन्य लोगों का समर्थन किया जिन्होंने सऊदी अरब से सहायता स्वीकार की है.

सऊदी अरब का कहना है कि उसने यमन में लगभग एक अरब डॉलर की सहायता की है और अपने साझेदारों के साथ 1.5 अरब डॉलर खर्च करने की योजना बना रहा है.

किंग सलमान मानवतावादी सहायता और राहत केंद्र में चिकित्सा और पर्यावरण सहायता के सहायक निदेशक अब्दुल्ला अल-वादी ने कहा, “वे हमारे पड़ोसी हैं इसलिए उनकी मदद करना हमारा फर्ज़ है.” उन्होंने कहा कि, ” यमनी लोग पहले इंसान हैं.”

तेज़ी से साहयता करते हुए, सऊदी ने सना के 115 किलोमीटर (70 मील) पूर्व में, मारिब में अमेरिकी सी -130 सैन्य परिवहन विमानों के साथ कुछ 20 सहायता विमान भेजे. किंग सलमान मानवतावादी सहायता और राहत केंद्र (केएस रिफिल) में तत्काल सहायता के निदेशक फहद अल-ओसेमी ने कहा कि सहायता में चावल, आटा, चीनी, नमक, तेल, सेम और अन्य खाद्य पदार्थ, साथ ही साथ कंबल, टेंट, कालीन और कई ज़रूरत का सामान शामिल हैं.

source: AFP photo

“यहां अलग-अलग लोग हैं क्योंकि मारिब में अधिक सुरक्षा है,” अल-ओस्मेनी ने कहा कि, यहाँ सना, धमर से लोग यहाँ आ रहे हैं और उन्हें और उन्हें सबसे ज्यादा मदद की ज़रूरत है.

उन्होंने कहा कि सउदी भी स्थानीय भागीदारों द्वारा हौथी नियंत्रण क्षेत्र को  खाने पीने की चीज़ें भेजते है.

मई 2015 से इस जनवरी तक, किंग सलमान मानवतावादी सहायता और राहत केंद्र का कहना है कि उसने यमन में सहायता के लिए 854 मिलियन डॉलर खर्च किए हैं. इनमें से बहुत से स्वास्थ्य देखभाल और भोजन पर खर्च किया है. जनवरी में, राज्य ने घोषणा की कि गठबंधन यूनाइटेड नेशन की एजेंसियों और अन्य राहत संगठनों में वितरण के लिए नए मानवतावादी सहायता कोष में 1.5 अरब डॉलर देगी.

सऊदी अधिकारियों ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त सरकार और नागरिकों का समर्थन करने वाले घायल सैनिकों की चिकित्सा देखभाल सबसे पहली प्राथमिकता रही है. मारिब में एक सऊदी-वित्त पोषित अस्पताल में मजदूर उन लोगों को अच्छी से अच्छी सेवा देते है जिन्होंने युद्ध में अंग खो दिए हैं.

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी, यूएनएचसीआर के मुताबिक, मारिब लोगों के रहने के लिए शिविर लगाये गए है. जहां से यमन के कुछ 20 लाख लोग युद्ध से विस्थापित हैं. यमैन में लगभग 112 प्रतिशत “स्वस्थ बस्तियां” अकेले मरिब प्रांत में हैं और लगभग 35 प्रतिशत यमन में हैं.