Home अरब देश सऊदी अरब ने 20,000 से अधिक अवैध भारतीय प्रवासियों को दी माफ़ी

सऊदी अरब ने 20,000 से अधिक अवैध भारतीय प्रवासियों को दी माफ़ी

सऊदी अरब में अवैध वीजा के मामले में फंसे हज़ारों भारतीय प्रवासियों को सऊदी अरब ने बड़ी राहत दी है. सऊदी अरब में अवैध वर्क परमिट पर काम कर रहे और वीज़ा अवधि ख़त्म होने के बाद भी सऊदी अरब में अवैध रूप से रह रहे हज़ारों भारतियों को सऊदी अरब ने माफ़ी क़ानून के तहत माफ़ी दे दी है.

रियाध में भारतीय दूतावास में सामुदायिक कल्याण काउंसलर अनिल नौटियाल ने कहा कि बीते सोमवार की शाम तक 20,321 भारतीयों ने इस कानून के तहत अपने देश वापस जाने के लिए आवेदन किया था. इन में अधिकांश प्रवासी तमिलनाडु, उत्तरप्रदेश और बिहार के हैं.

एक योजना के लिए रियाध में एक विशेष केंद्र स्थापित किया गया है. सऊदी सरकार देश में अवैध रूप से रहने वाले सभी भारतीयों से वापस जाने के विषय में पूछताछ कर रही है. 2013 में इस तरह की योजना रियाध और जेद्दाह में रहने वाले प्रवासियों पर लागू नहीं की गयी थी. लेकिन इस बार इस योजना को पूरे देश में लागू किया गया है.

नौटियाल ने बताया कि भारत वापस लौटने का आवेदन करने वाले अधिकाँश प्रवासी ब्लू- कॉलर श्रमिक हैं. लौटने के लिए तैयार भारतीय प्रवासियों का वीज़ा और पास मुफ्त में तैयार किया जा रहा है लेकिन उड़ान का खर्च उन्हें खुद भरना होगा.

ज्ञात हो कि सऊदी अरब में वीज़ा अवधि ख़त्म होने के बाद रहने वाले या अवैध वर्क परमिट पर काम करने वाले प्रवासियों को सजा और जुर्माने का प्रावधान है. इसके बाद उन्हें उनके देश भी वापस भेज दिया जाता है, इसके बाद यदि वे कभी दोबारा सऊदी अरब आना चाहते हैं तो उन्हें तमाम दिक्कतों का सामना भी करना पड़ता है, लेकिन सऊदी सरकार ने एमनेस्टी क़ानून के तहत ऐसे सभी प्रवासियों पर कोई सजा या जुर्माना नहीं लगाया है और उन्हें उनके देश वापस भेजा रहा है. इन प्रवासियों को सऊदी अरब में दोबारा वापस आने में भी किसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा.