Home अरब देश “अभी भी हिरासत में हैं सऊदी मौलवी सलमान-अल-अवदा”

“अभी भी हिरासत में हैं सऊदी मौलवी सलमान-अल-अवदा”

ह्यूमन राईट वाच की रिपोर्ट के अनुसार सऊदी अधिकारियों ने सऊदी के विद्वान को पिछले चार महीनो से बिना किसी चार्ज के हिरासत में लिया है.

अमेरिका स्थित ह्यूमन राईट ग्रुप ने कहा की “सऊदी अधिकारीयों ने 7 सितम्बर को सलमान-अल-अवदा को हिरासत में लिया था और बाद में सलमान के परिवार को यात्रा करने पर प्रतिबन्ध लगा दिया था.” अवदा ने पोस्ट कर कहा था की “अल्लाह, उनके दिलों को मिला(एकजुट) देता है जो उसके अच्छे बन्दे होते हैं.”

सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और मिस्र ने कतर के खिलाफ 5 जून को बहिष्कार का आरोप लगाया, जिसमें इन चार अरब देशों ने दोहा पर “आतंकवादी” सहायता करने और ईरान के साथ घनिष्ठ संबंधों का आरोप लगाया था, हालाँकि कतर ने इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया. एचआरडब्लू ने कहा की “अधिकारीयों ने अवदा के परिवार को अक्टूबर में फ़ोन करने की इजाजत दी थी.”

एचआरडब्ल्यू के मिडिल ईस्ट डायरेक्टर सारा लेह व्हाट्सन ने कहा की “सऊदी अर्थव्यवस्था और समाज में सुधार करने के लिए क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के प्रयास विफल हो सकते हैं यदि उनकी न्याय प्रणाली ने मनमानी गिरफ्तारी और दंड के आदेश देकर कानून का शासन किया है.” उन्होंने कहा की “किसी बंदी के परिवार को बिना किसी सबूतों के दंडित करना औचित्य नहीं है”.

सऊदी कार्यवाही

एचआरडब्ल्यू के मुताबिक, अवादा सितंबर में गिरफ्तार किए गए दर्जनों लोगों में से एक थे, जिन्हें सऊदी अधिकारीयों ने यह कहकर गिरफ्तार किया था की यह लोग “राज्य की सुरक्षा और उसके हितों की सुरक्षा के खिलाफ विदेशी दलों के लाभ के लिए” काम कर रहे थे.

सऊदी अरब ने नवंबर में भ्रष्टाचार मामले में कई लोगों की गिरफ्तारी की थी और गिरफ्तार हुए लोगों को पांच सितारा होटल में कैद किया था, अवदा के भाई, खालिद को भी गिरफ्तार किया गया क्योंकि उन्होंने अपने भाई के लिए एक पोस्ट किया था.

एचआरडब्ल्यू के अनुसार सऊदी अधिकारियों ने अवादा के परिवार के 17 सदस्यों पर यात्रा प्रतिबंध लगाया. व्हाइटन ने कहा “यदि मोहम्मद बिन सलमान को यह दिखाना है कि सऊदी अरब में एक नया युग शुरू हो गया है, तो पहला कदम उन कार्यकर्ताओं और असंतुष्टों की रिहाई होगी, जिन्होंने कभी भी अपराध नहीं किया और उन्हें कभी भी जेल नहीं जाना चाहिए.