Home अरब देश दुबई में 12 वर्षीय भारतीय बच्ची ने गाये इतने गाने की बना...

दुबई में 12 वर्षीय भारतीय बच्ची ने गाये इतने गाने की बना दिया ‘वर्ल्ड रिकॉर्ड’

सौजन्य से-खलीज टाइम्स

भारत को गणतन्त्र दिवस के मौके पर दुबई में स्थित भारतीय प्रवासी की लड़की ने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाकर एक अच्छा उपहार दिया, दुबई में रहने वाली भारतीय मूल की 12 वर्षीय बच्ची सुचेता सतीश ने कॉन्सर्ट में गाने गाये जो की दुबई के इंडियन कंसल्टेट ऑडिटोरियम में आयोजित किया गया था, कांटेस्ट में इस बच्ची ने 100 अलग-अलग भाषाओँ में गाना गाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया है.

सुचेता ने शाम 4:10 पर गाना शुरू किया था और इस नॉन स्टॉप मेराथन को सुचेता ने रात 10.30 बजे खत्म किया, जिसमे सातवीं कक्षा की इस बच्ची ने सौ अलग-अलग भाषाओँ, जिनमे 26 भारतीय भाषा और बाकि यूरोपियन,अमेरिकन व कई प्रकार की भाषाएँ शामिल रहीं.

सुचेता के पिता, टीसी सतीश ने कहा की “वह सिर्फ उस गीत को चुनती है जिसे वह पसंद करती है और फिर गीतों की लिरिक्स जांच करती है और गूगल के अनुवाद के माध्यम से गीत का अर्थ समझती है, हालाँकि वह यह नहीं जानती की यह कैन सी भाषा में कहा गया गीत है, लेकिन वह गीत चुनकर और समझकर याद कर लेती है.

छह घंटे और 15 मिनट तक चलने वाले संगीत कार्यक्रम में, 102 भाषाओं में सुचेता ने यह गीत गाया , इस रिकॉर्ड बनाने वाली परफॉरमेंस को देखने के लिए भारतीय राजनयिकों, उसके दोस्तों, शिक्षकों और शुभचिंतक समेत गायक और डॉक्टर शामिल थे.

सुचेता को उनकी उपलब्धि पर बधाई देते हुए, दुबई में विपुल, जो की भारत के कॉन्सल जनरल हैं, ने कहा की  “यह वास्तव में एक अविश्वसनीय उपलब्धि है और यह भारतीय गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर हमारे लिए एक महान उपहार है, मुझे खुशी है कि उन्होंने इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए वाणिज्य दूतावास सभागार का इस्तेमाल किया.

सामाजिक कार्यकर्ता गिरीश पंत ने कहा की “यह भारत और संयुक्त अरब अमीरात दोनों के लिए एक गर्व का क्षण है, हमें सम्मानित महसूस होता है कि हमारे गणतंत्र दिवस के इस महत्वपूर्ण अवसर पर युवा सुचेता ने हमें गर्व से चलने का मौका दिया.”

सुचेता को अलग-अलग भाषाओं में गायन करने में रुचि शुरू करने के बारे में, उसके पिता से जब पूछा गया तो उन्होंने बताया की “यह सब कुछ साल पहले ही शुरू हुआ जब मेरा एक जापानी मित्र घर आया और उसने एक जापानी गीत गाया, जिसने मेरी बेटी को बहुत ही आकर्षक किया, सुचेता ने एक बार गाने को सीखा और रिकॉर्ड किया और इसे मेरे जापानी मित्र को अगली सुबह वापस भेज दिया,सुचेता ने इस गीत को सही धुन और उच्चारण में गाया गया और उसके बाद मेरे मित्र ने इसे एफबी पर पोस्ट किया, जापानी लोगों ने इस पोस्ट पर बहुत अच्छी प्रतिक्रियाए देना शुरू किया, बस तब ही से उसे गायन में रूचि हो गयी और वह तब से पीछे नहीं हटी और उसने अलग-अलग भाषाओँ में गायन शुरू किया और अब यह उसका जूनून बन गया.

उसके पिता ने कहा की “हालांकि वह विशेष रूप से आर्मीनियाई और स्लोवाक गीतों को पसंद करती है, वह भी अरबी और तुर्की के गाने पसंद करती है.”

संयुक्त अरब अमीरात के युवाओं को एक संदेश देते हुए इस स्टार कलाकार ने कहा की  “बच्चों को उनके जुनून का पीछा करना चाहिए, मैं भी सक्रिय रूप से तम्बाकू, शराब और नशीली दवाओं के खिलाफ प्रचार कर रही हूँ और मुझे लगता है कि युवाओं को जागरूकता फैलाने के लिए संगीत और खेल का इस्तेमाल करना चाहिए.

सुचेता इवेंट्स के दौरान श्रमिक आवास में भी गयी और उसने वहाँ श्रमिकों को बुरी आदतों को छोड़ने की प्रतिज्ञा लेने को भी कहा.