Home अरब देश अब भारत भी खरीदेगा सऊदी अरामको में हिस्सेदारी

अब भारत भी खरीदेगा सऊदी अरामको में हिस्सेदारी

सऊदी अरब की सबसे बड़ी और सरकारी तेल कंपनी सऊदी अरामको में भारत हिस्सेदारी खरीदने की योजना बना रहा है. सऊदी अरामको अगले साल से मार्केट में अपने शेयर बेचने जा रही है. भारत सरकार सऊदी अरब के साथ रणनीतिक और आर्थिक संबंधों को मजबूत करने के लिए इस कंपनी में अहम हिस्सेदारी खरीदना चाहती है.

एक समाचार एजेंसी के अनुसार, पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि भारत की सरकारी तेल कंपनियां चाहती हैं कि सऊदी अरामको के साथ मिलकर एक ज्वाइंट वेंचर तेल रिफाइनरी खोली जाए, इस रणनीति के तहत भारतीय सरकारी तेल कंपनियां सऊदी अरामको में निवेश करना चाहती हैं. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि वे चाहते हैं कि सऊदी अरामको लंबे समय के लिए भारत का सप्लायर बने, इस बारे में सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्री खालिद अल फलिह से चर्चा की गयी थी. अरामको ने इस ज्वाइंट वेंचर के लिए रूचि दिखाई है.

धर्मेन्द्र प्रधान ने आगे कहा कि भारत की तीन सरकारी तेल कंपनियां पश्चिमी समुद्री तट पर एक मेगा रिफाइनरी स्थापित करने की योजना बना रही है. 6 करोड टन सालाना क्षमता वाले इस रिफाइनरी के लिए एक कच्चे तेल के एक बड़े आपूर्तिकर्ता की तलाश है और सऊदी अरामको इसके लिए उपयुक्त साझेदार है.

ज्ञात हो कि सऊदी अरामको अगले साल दुनिया का सबसे बड़ा आईपीओ लाने जा रही है. कंपनी दुनिया के टॉप शेयर बाजार में अपने 5 प्रतिशत शेयर बेचेगी. लेकिन इस पांच प्रतिशत शेयर का मूल्य दुनिया के कई देशों के जीडीपी से ज्यादा है. 5 प्रतिशत शेयर बेचने पर सऊदी अरामको को 100 अरब डॉलर यानी कि लगभग 6.70 लाख करोड़ रुपये हासिल होंगे. इसके साथ ही कंपनी का मूल्य 2 ट्रिलियन डॉलर हो जाएगा.