Home अरब देश मिस्र को सऊदी अरब से बेनियाज नहीं कर सकता अमीरात का निवेश

मिस्र को सऊदी अरब से बेनियाज नहीं कर सकता अमीरात का निवेश

मिस्री सांसद मोहम्मद अबू हामिद ने मिस्र में सऊदी अरब का स्थान लेने के लिए अमीरात द्वारा की जाने वाली कोशिशों से सऊदी अधिकारियों की नाराज़गी की तरफ़ इशारा करते हुए कहाः सऊदी अरब के राजदूत अहमद क़तान ने मिस्र के कुछ सांसदों के साथ मुलाक़ात में मिस्र में संयुक्त अरब अमीरात की दिखावे की हीरोगीरी पर अपनी तीव्र नाराज़गी प्रकट की।

सौत मिस्र अलहुर्रा की रिपोर्ट के अनुसार इस सांसद ने सऊदी अरब के राजदूत अहमद क़तान के हवाले से ज़ोर देकर कहाः संयुक्त अरब अमीरात का थोड़ा सा निवेश मिस्र की किसी भी समस्या को हल नहीं कर सकता है इसीलिए मिस्र को कोशिश करनी चाहिए कि वह सऊदी अरब के साथ अपने दोस्ताना संबंधों को बचाए रखे क्योंकि यह देश आर्थिक दृष्टि से सऊदी अरब के निवेश और सहायता को मोहताज है।

मोहम्मद अबू हामिद ने कहा कि सऊदी अरब के राजदूत ने मिस्र की राष्ट्रीय संसद में उनसे और उनके साथियों से कहा है कि वह मिस्र की मीडिया पर संयुक्त अरब अमीरात के वर्चस्व को रोकें क्योंकि सऊदी राजदूत के अनुसार “मीडिया के व्यापक हमलों के पीछे अमीरात का पाखंडी हाथ कार्य कर रहा है जो मिस्र की जनता की नज़र में सऊदी अरब के चेहरे को बुरे रूप में दिखाना चाहता है।”

इस सांसद ने मिस्री सरकार की रणनीतिक ग़लतियों और इस प्रकार के क़दमों पर सऊदी अरब के धैर्य की प्रशंसा करते हुए कहाः सऊदी अरब के राजदूत ने हम पर स्पष्ट कर दिया है कि सऊदी अरब केवल इस्लामी और अरबी एकता को बचाए रखने के लिए इस प्रकार की बचकाना हरकतों पर प्रतिक्रिया नहीं दे रहा है।