Home अरब देश उन प्रवासियों के बच्चों को मिल सकती हैं राष्ट्रीयता, जिन्होंने की हैं...

उन प्रवासियों के बच्चों को मिल सकती हैं राष्ट्रीयता, जिन्होंने की हैं सऊदी महिलाओं से शादी

रियाद- कई प्रवासी होते हैं जो सऊदी अरब काम के सिलसिले से जाते हैं और वहीं अपनी पूरी जिन्दगी व्यतीत कर लेते हैं और वहीं किसी सऊदी महिला से शादी कर लेते हैं, लेकिन सबसे बड़ी दिक्कत उनको बच्चों को आती है, जिन्हें सऊदी अरब की राष्ट्रीयता नहीं मिल पाती है, लेकिन शौरा परिषद् ने बुधवार को हुई बैठक में इस बात पर चर्चा की कि “उन बच्चों को भी राष्ट्रीयता मिलनी चाहिए जिनकी माता सऊदी की हैं और पिता गैर-सऊदी.”

शॉरा परिषद ने उन बच्चों को राष्ट्रीयता देने पर सहमती जतायी है, जिनकी माता सऊदी अरब की और पिता गैर-सऊदी होते हैं.

63 मतों के बहुमत के साथ, परिषद ने सऊदी राष्ट्रीयता नियमों और विनियमों में संशोधन करने के उद्देश्य से दो प्रस्तावों का अध्ययन करने पर सहमति व्यक्त की,  यह प्रस्ताव दो साल पहले पेश किया गया था लेकिन चर्चा के लिए कभी भी नहीं लिया गया था.

यह प्रस्ताव दो पदों वाले सदस्यों लतीफा अल-शालन और अता अल-सिबैती और तीन आउटगोइंग महिला सदस्यों हया अल-मनी, थुरैया ओबैद और वफा तैबा द्वारा पेश किया गया, कुछ सदस्यों ने इस प्रस्ताव का पूरी तरह से समर्थन किया तो वहीं कुछ सदस्यों ने इसका विरोध किया.

कानूनी पृष्ठभूमि वाले एक सदस्य फहद अल-अंज़ी ने राष्ट्रीयता देने का विरोध किया और कहा की “जिनकी माता सउदी हैं, लेकिन पिता गैर-सऊदी हैं, उनके बच्चों को राष्ट्रीयता नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि बच्चों को आमतौर पर उनके पिता की नागरिकता से पहचाना जाता है,वह अपने पिता से जुड़े होते हैं.”

उन्होंने कहा “एक सऊदी महिला का गैर-सऊदी व्यक्ति से शादी करना यह उन दोनों की पसंद है परन्तु उनके बच्चों को राष्ट्रीयता देना यह सही नहीं है.”

वहीँ एक अन्य सदस्य फैसल अल-फेदिल ने अपने सहयोगी का विरोध किया और कहा की “इस तरह बच्चों को राष्ट्रीयता देने से शरीयत में मानव अधिकारों का समाविष्ट होता है.”

एक महिला सदस्य इकबाल दारंद्री ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया और कहा की “कुछ बच्चे हैं जो सऊदी देश में पैदा हुए हैं और वह किसी अन्य मातृभूमि या देश को नहीं जानते, इसलिए उन्हें राष्ट्रीयता दी जानी चाहिए.”

नऊरा अल-मसाद, एक महिला सदस्य ने भी इस प्रस्ताव का समर्थन कर कहा की “ज्यादातर देशों में महिलाओं का किसी विदेशी व्यक्ति से शादी करने पर उनके बच्चों को माता के देश की राष्ट्रीयता दी जाती है.”

अब्दुल्लाह अल-हार्बे ने कहा कि “बहुत से लोग जिनकी मां सउदी हैं लेकिन पिता गैर-सऊदी हैं वह बहुत योग्य हैं, ऐसे लोगों को राष्ट्रीयता प्राप्त करने से रोकना एक योग्य कैडर के देश को वंचित करेगा”.