Home अरब देश सऊदी अरब में खुल सकते हैं एप्पल और अमेज़ॅन के शोरूम

सऊदी अरब में खुल सकते हैं एप्पल और अमेज़ॅन के शोरूम

SOURCE-STEP FEED

विज़न 2030 के तहत सऊदी क्राउन प्रिंस देश की अर्थव्यवस्था को एक अलग स्तर पर ले जाना चाहते हैं, जहां वह नहीं चाहते की देश पूरा तेल पर निर्भर हो, इस वजह से सऊदी अरब में अर्थ व्यवस्था को मजबूत करने के लिए कई अहम् फैसले लिए जा रहे हैं.

ग्लोबल टेक्नोलॉजी की दो बड़ी कंपनियां एप्पल और ऑनलाइन शौपिंग सेंटर Amazon.com जल्द ही सऊदी अरब में इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं.

दो अज्ञात सूत्रों ने रॉयटर्स से पुष्टि करते हुए कहा की “यह दोनों अमेरिकी कंपनियां सऊदी अधिकारीयों से देश में अपने शो रूम खोलने की बातचीत कर रही हैं, एप्पल अथॉरिटी ने देश की फॉरेन इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी SAGIA से बातचीत की है. मिडिल ईस्ट में तुर्की और अरब गणराज्य में अमीरात ही ऐसे देश हैं, जहां एप्पल स्टोर खुले हैं.

अमेज़ॅन के लिए, इस साल की शुरुआत में कंपनी ने करीब 600 मिलियन डॉलर के लिए संयुक्त अरब अमीरात में  स्थित Souq.com खरीदा था, Souq.com सऊदी अरब सहित अरब दुनिया में अपना स्टॉक भेजता है.

क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की महत्वाकांक्षी विजन 2030 के तहत, प्रिंस देश को एक उच्च तकनीक भविष्य देने की योजना कर रहे हैं, वे देश को तेल पर कम निर्भर रख कर देश को आर्थिकी मजबूत करने के विभिन्न तरीके ढून्ढ रहे हैं.

पिछले साल, क्राउन प्रिंस ने संयुक्त राज्य अमेरिका का दौरा किया था, जहां उन्होंने फेसबुक और माइक्रोसॉफ्ट के  तकनीकी दिग्गजों का दौरा किया, जिसका उद्देश्य उनके साथ इन्वेस्टमेंट समझौतों पर हस्ताक्षर कर सऊदी अरब में समर्थन करना था.

सऊदी आबादी में 70 प्रतिशत 30 वर्ष से कम उम्र के है

सऊदी अरब में अमेज़ॅन और एप्पल से प्रत्यक्ष निवेश को क्राउन प्रिन्स मोहम्मद की तकनीकी क्षेत्र के विकास के लिए एक प्रमुख कदम के रूप में देखा जाएगा, इस तरह के निवेश से अमेरिकी कंपनियों को भी बड़ा लाभ मिलेगा, क्योंकि राज्य एक युवा और अपेक्षाकृत समृद्ध बाजार का घर है.

द न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, 70 प्रतिशत सऊदी आबादी 30 वर्ष से कम है, सऊदी लोग नियमित रूप से सोशल मीडिया के उपयोग में भी व्यस्त है और विशेष रूप से तकनीक-प्रेमी के रूप में इन्हें देखा जाता है.

SOURCE-STEP FEED

हालांकि, जब स्मार्टफोन उपयोग की बात आती है तो एप्पल का नाम देश में सैमसंग के बाद दुसरे नंबर पर आता है.

यह कदम देश में युवाओं को रोजगार के मौके देगा.