Home यूनाइटेड स्टेट्स आखिरकार ट्रम्प ने येरुशलम को इसराइल की राजधानी घोषित कर दिया

आखिरकार ट्रम्प ने येरुशलम को इसराइल की राजधानी घोषित कर दिया

दुनिया भर के तमाम देशों के विरोध को एक सिरे से नज़रंदाज़ करते हुए आखिरकार डोनाल्ड ट्रम्प ने येरुशलम को इसराइल की राजधानी के रूप में मान्यता दे ही दी. प्रेस कांफ्रेंस कर अमेरिकी राष्ट्रपति ने इस फैसले का ऐलान किया. उन्होंने कहा की “अमेरिका की एम्बेसी तेल अवीव से येरुशलम ले जायेगा. अमेरिका हमेशा से दुनिया में शांति का पक्षधर रहा है और आगे भी रहेगा। सीमा विवाद में हमारी कोई भूमिका नहीं होगी”।

गौरतलब है की इसराइल के फिलिस्तीन पर अतिक्रमण को यह अंतिम कदम माना जा रहा है जिसके बाद से लगभग सम्पूर्ण फिलिस्तीन पर इसराइल कब्ज़ा कर देगा. बताते चले की पूर्वी येरुशलम फिलहाल में फिलिस्तीन की राजधानी है लेकिन वैश्विक दादागिरी के चलते कब्जाए हुए देश पर उसकी राजधानी को हथियाने का दुसाहसिक कदम है.

ट्रम्प के इस फैसले से फिलिस्तीन में विरोध करते युवा

वैसे तो अरब देशों तथा मिडिल ईस्ट में पहले से ही इस कदम का विरोध किया जा रहा था लेकिन ट्रम्प के इस फैसले के बाद मिडिल ईस्ट में तनाव बढ़ने की उम्मीद की जा रही है. हालाँकि खुद अमेरिका भी मानता है की क्षेत्र में तनाव बढेगा इसीलिए उसने अमेरिकी नागरिकों को इसराइल जाने से बचने की सलाह दी है. चीन, रूस, जर्मनी आदि देशों ने कहा कि इससे तनाव बढ़ेगा।

सऊदी अरब के सुल्तान सलमान ने कहा है कि अमेरिका के इस कदम से दुनियाभर के मुसलमान भड़क सकते हैं। वहीं, अमेरिका के करीबी दोस्त मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी ने इसे खतरनाक कदम बताया। फ्रांस, यूरोपियन यूनियन (ईयू) ने भी ट्रम्प के इस कदम पर चिंता जताई है।