फ़िलिस्तीन के विदेशमंत्रालय ने अमरीकी राष्ट्रपति पद के दो उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप” और “हिलेरी क्लिंटन” के ज़ायोनी समर्थित बयान के सम्बन्ध में दोनों ही उम्मीदवारों की कड़ी आलोचना की हैं.

डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से अमेरिकी राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने रविवार को नेतनयाहू से न्यूयॉर्क में मुलाक़ात में कहा था कि वह फ़िलिस्तीन-इस्राईल मतभेद के सम्बन्ध के संबंध में दोनों राष्ट्रों सम्बंधित समझौते का समर्थन करेगी, लेकिन संयुक्त राष्ट्र संघ सहित बाहरी पक्षों की ओर से थोपे गए हर समझौते में बाधा डालना की कोशिश करेगी.

हिलेरी क्लिंटन” ने कहा कि इस्राइल के खिलाफ जारी अभियान में वो उसका मुकाबला करेगी जिनमें बीडीएस अभियान भी शामिल है इसी तरह रिपब्लिकन पार्टी की ओर से निर्वाचित उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प ने भी कहा है कि वह क़ुद्स को इस्राइल की राजधानी के रूप में जानते हैं.

इन दोनों ही उम्मीदवारों के बयान से यह बात साफ ज़ाहिर होती हैं कि अमेरिका ज़ायोनी शासन के समर्थन में हैं. पर्स न्यूज़ के मुताबिक अमेरिका ज़ायोनी शासन का भरपूर समर्थक रहा है और इसके समर्थन के कारण ही स्वतंत्र फ़िलिस्तीनी देश का गठन नहीं हो सका हैं.

न्यूज़ अरेबिया एकमात्र न्यूज़ पोर्टल है जो अरब देशों में रह रहे भारतीयों से सम्बंधित हर एक खबर आप तक पहुंचाता है इसे अधिक बेहतर बनाने के लिए डोनेट करें
डोनेशन देने से पहले इस link पर क्लिक करके पढ़ें Click Here

वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया का यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें :-


आज की पसंदीदा ख़बरें
Loading...

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here