Home यूनाइटेड स्टेट्स “अमेरिका येरुसलम पर लिए फैसले को नहीं बदलेगा” : ट्रम्प सहयोगी

“अमेरिका येरुसलम पर लिए फैसले को नहीं बदलेगा” : ट्रम्प सहयोगी

वाशिंगटन- अमेरिकी सरकार के एक्टिंग असिस्टेंट सेक्रेटरी डेविड सैटरफील्ड से जब पूछा गया की क्या डोनाल्ड ट्रम्प जेरुसलम को इस्राइल की राजधानी बनाये जाने के अपने फैसले को बदलेंगे? तो उन्होंने कहा की “नहीं, राष्ट्रपति का फैसला यही रहेगा”.

उनका मानना भी यही है की “यह अमेरिका के लिए सही समय पर सही कदम है” हम ऐसा कुछ नहीं करेंगे की हम फैसला बदल दे. उन्होंने कहा की “जेरुसलम इस्राइल की राजधानी है और रहेगी”.

उन्होंने कहा की “ट्रम्प ने घोषणा की थी की वह जेरुसलम को इस्राइल की राजधानी के रूप में मान्यता देंगे और युएस एम्बेसी को वहाँ स्थान्तरित करेंगे, यह इन दोनो देशो के बीच शांति की पहल होगी, अन्य देशों को इस फैसले को समझना चाहिए.

खलीज टाइम्स के अनुसार जब उनसे पुछा गया की क्या यह “कट्टरपंथियों के लिए इस क्षेत्र में नफरत की भाषा फ़ैलाने का एक बड़ा मौका है” तो उन्होने ट्रम्प का बचाव करते हुए कहा की “हमने यह स्पष्ट करने की कोशिश की है कि यह वास्तविकता की मान्यता है, बातचीत की प्रक्रिया का समाधान नहीं है.

हम आशा करते हैं कि अरब नेता और विश्व के नेता समझ जाए, हम उनके साथ आगे बढ़ना चाहते हैं और नए साल में शांति प्रक्रिया के साथ आगे बढ़ना चाहते हैं, जिससे क्षेत्र को आगे बढ़ने में मदद मिलेगी” और उन्होंने कहा कि अब यह दुनिया के नेताओं पर निर्भर है कि वे जनता के सामने इस फैसले को कैसे व्यक्त करते हैं”

यह सवाल किये जाने पर की ट्रम्प ने यह फैसला क्यों लिया? तो उन्होंने कहा की जब से उन्होंने सरकार संभाली है तो तब से वह इस फैसले पर विचार कर रहे थे ” ट्रम्प को यरूशलेम दूतावास अधिनियम के छूट के बारे में फैसला करना था”

और अगर इसके अरब सहयोगी अमेरिका से संबंध तोड़ने की बात करें तो वॉशिंगटन पर आर्थिक प्रभाव क्या हो सकता है? इसके जवाब में उन्होंने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया और कहा कि यह केवल एक “काल्पनिक” प्रश्न है.

उन्होंने कहा की “हम उम्मीद करते हैं कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय इस निर्णय का सम्मान करें और समझे की क्या सही है और क्या नहीं”.

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ट्रम्प ने राज्य के सचिव को निर्देश दिया है कि वे यरूशलेम में एक नया अमेरिकी दूतावास स्थापित करें, और वे डिजाइनिंग कर रहे हैं”