Home अफ्रीका “हमारे बच्चों को अब और आतंकवादियों द्वारा शिक्षित नहीं किया जायेगा”

“हमारे बच्चों को अब और आतंकवादियों द्वारा शिक्षित नहीं किया जायेगा”

source-daily sabah

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान मंगलवार को अपने आर्थिकी, राजनितिक संबंधों को मजबूत करने के लिए अफ्रीका के चाड देश पहुंचे, जहां पहुंचकर तुर्की के राष्ट्रपति और चाड देश के नेताओं ने अंतरराष्ट्रिय मुद्दो और आतंकवाद सहित कई मुद्दों पर बातचीत की.

एर्दोगान के साथ एक सम्मेलन में चाड के राष्ट्रपति इद्रिस डेबे ने कहा कि “चाड की सरकार आतंकवाद का समर्थन करने वाली या आतंकवाद समूह से जुड़ने वाले स्कूल को बंद करने का समर्थन करती है”. इद्रीस ने चाड में स्थित तुर्किश यूनियन फाउंडेशन का समर्थन करते हुए इद्रीस ने कहा की “हमारे बच्चों को अब और आतंकवादियों द्वारा शिक्षित नहीं किया जाएगा, सरकार आतंकवादी समूह से जुड़े स्कूलों के बंद होने का समर्थन करती है. प्रतिनिधिमंडल के साथ हुई बैठक के बाद एर्दोगान ने इद्रीस से अकेले में भी बात की.”

अपनी बैठकों के दौरान, दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडलों ने द्विपक्षीय सहयोग और महत्वपूर्ण क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर बात की थी. चाड के अधिकारीयों ने भी तुर्की से उम्मीद की “कि तुर्की दो मुख्य परियोजनाओं (हवाई अड्डे और पूल के निर्माण) में भाग लेगा और साथ ही आयल रिसर्च के निर्माण में भी भाग लेगा.”

एर्दोगान ने चाड के साथ द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ावा देने के लिए कहा, एर्दोगान ने तुर्की के निवेशकों को अफ्रीकी राष्ट्र में अधिक निवेश करने के लिए कहा, की “हमने कभी भी अफ्रीका के इस देश में आने वाले उपनिवेशवादियों को नहीं देखा”. एर्दोगान ने आगे कहा की “अफ्रीकी महाद्वीप पर हमारे संबंध परस्पर सम्मान, प्रेम सिद्धांत पर आधारित हैं, हम एक ऐसे समझ के साथ अपने संबंधों को विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं जो दोनों देशों को एक साथ विकसित करना, एक साथ प्रबंधन करना, एक साथ समृद्ध बनाना चाहता है.”

जेरुसलम निर्णय पर प्रतिनिधिमंडलों ने कहा की “एकतरफा यू.एस. के निर्णय को पवित्र शहर को इजरायल की राजधानी के रूप में पहचानना अस्वीकार्य है और निरर्थक और शून्य है.”

उन्होंने दो राज्यीय दृष्टि के आधार पर, जेरूसलम के लिए एक स्थायी, और व्यापक शांतिपूर्ण समाधान के लिए भी आह्वान किया.

बैठक में मिडिल ईस्ट तनाव के लिए चिंता व्यक्त की गई और आग्रह किया गया की यह वैश्विक सुरक्षा के लिए खतरा है.

राष्ट्रपति राजधानी एन’जेमेना में हवाई अड्डे पर उतरे, जहां वह चाड के राष्ट्रपति से मिले. चाड के राष्ट्रपति ने कहा की “यह यात्रा दोनों देशों के बीच संबंधो को मजबूत करने के लिए एक नया अध्याय खोलती है”.

यह यात्रा राष्ट्रपति के तीन देशों के अफ्रीकी दौरे का हिस्सा है और यह यात्रा रविवार को सूडान की यात्रा के बाद की गई,जहां एर्दोगान ने सैन्य और आर्थिक सौदों पर हस्ताक्षर किए थे, जिसका उद्देश्य सालाना 500 मिलियन डॉलर के मौजूदा स्तर से एक अरब डॉलर तक के व्यापार को बढ़ावा देना है.