इजरायल की न्याय मंत्री एल्ट शाकीद ने वकीलों की वार्षिक बैठक में सुप्रीम कोर्ट की कड़ी आलोचना की है।

उन्होंने इजरायल से अफ्रीकी निवासियों को निकाले जाने के संबंध में कहा है: “यह कानून इजरायल की पहचान को नष्ट करेगा।”

उन्होंने कहा: इजरायल में नागरिक अधिकार, इस देश की पहचान यहूदी इतिहास के अनुसार नहीं है, और अदालत यहूदियों के हितों के बजाय व्यक्तिगत अधिकारों का ध्यान रख रही है।

उन्होंने कहा: यह सही नहीं है कि इजरायल अंतरराष्ट्रीय नागरिक कानूनों का पालन करें, और लोकतंत्र के बहाने से इजरायल की राष्ट्रीय पहचान को भूल जाएं।

एल्ट शाकीद ने कहा: अदालत बहुसंख्यक यहूदियों का ध्यान नही रखती है और तेल अवीव में अफ्रीकी यहूदियों के अवैध शहर के बारे में फैसला भी अवैध है।

शाकीद का संबंध शिक्षा मंत्री, नफताली बेने के परिवार से है, उन्होंने आगे कहा: मानवाधिकार संगठनों के दबाव के कारण अदालत ने ऐसा निर्णय दिया है, जिसके कारण अफ्रीकी यहूदियों को इजरायल से निकाल कर जायोनियों के समर्थन से दूर कर दिया गया है।

ज्ञात रहे कि यह यहूदी सूडान, इरिट्रिया से पलायन करके इजरायल पहुँचे थे।

इजरायल के पूर्व चीफ जस्टिस ने उनके बयान का जवाब देते हुए कहा: “यह सबसे बड़ा आरोप है कि इस देश के न्यायधीशों का ज़ायोनियों से कोई संबंध नहीं है, हम इजरायल को यहूदी-जायोनी और डेमोक्रेटिक समझते हैं।

उल्लेखनीय है कि शाकीद इराक से हैं और उन्होंने फिलीस्तीनियों को सांप और आतंकवादी बताकर उनके नरसंहार की मांग की है।

ऐसा कहा जाता है कि शाकीद जातिवाद है उन्होंने एक पायलट से शादी कर ली है और दो बेटे हैं, और तेल अवीव विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रिकल और कंप्यूटर इंजीनियरिंग की गई है, और वह सेना में भी प्रशिक्षण देती रही हैं, और वह इजरायल-फिलिस्तीन समझौते की कट्टर विरोधी हैं।


Urdu Matrimony - अरब देशों में शादी करने के इच्छुक है तो यहाँ क्लिक करके फ्री रजिस्टर करें

Comments

comments

loading...

अरब देशों में नौकरी करना चाहते है तो यहाँ क्लिक करें