इंडोनेशिया के एक स्कूल में सभी बच्चो की माताओ को आमंत्रित किया गया जहां बच्चे अपनी-अपनी माँ के पैरो को धुलाये. बल्कि पूरे इंडोनेशिया में हर स्कूल में एक स्पेशल दिन होता है. उस दिन सारे बच्चों की माओं को स्कूल बुलाया जाता है और उनके बच्चों के द्वारा उनके पैर धुलवाए जाते हैं ताकि ये बच्चे अपने माँ-बाप की सेवा करना ना भूलें.

हालाँकि इस तरीके को कई मीडिया आउटलेट हिन्दू धर्म में पैर छूने की परंपरा से जोड़ रहे हैं, लेकिन हम आपको बता दे कि हिन्दू धर्म की इस परंपरा और पैर धुलाने में काफी अंतर हैं. इन दोनों के बीच कोई सम्बन्ध नहीं हैं.

स्कूल में ये दिन बच्चो को ये याद दिलाने के लिए आयोजित किया जाता हैं कि ज़न्नत माँ के पैरो में हैं. इस्लाम में यहाँ पर महिलाओं के प्रति गलत विचार बताये जाते हैं लेकिन ये सरासर गलत हैं. इस्लाम धर्म में माँ को काफी बड़ा दर्जा मिला हैं.

इस्लाम की पवित्र किताब क़ुरान की आयात और पैग़म्बर-ए-इस्लाम मोहम्मद सल्लहो अलह वसल्लम के अनगिनत कथन मिलते हैं जिसमे ये कहा गया हैं कि माँ का दर्ज क्या हैं और माँ ने गर्भवस्था के दौरान क्या पीड़ा झेलती हैं.

Web-Title: Indonesian children washed Mother feet

Key-Words: Indonesia, Children, Washed, Mother, Saudi Arab News,Arab News Hindi , Saudi Arabia New Hindi


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह करने के इच्छुक है तो रिश्ते के लिए लडकें/लड़कियों के फोटो देखें - फ्री रजिस्टर करें

Comments

comments

loading...

अरब देशों में नौकरी करना चाहते है तो यहाँ क्लिक करें