अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति बराक ओबामा अपने आखिरी संबोधन के दौरान बेहद भावुक हो गए. उन्होंने अपने भाषण की शुरआत कुछ इस तरह की, उन्होंने कहा कि “आप कह सकते हैं कि मैं एक लेम डक राष्ट्रपति हूं जिसकी कोई नहीं सुन रहा है.”

10 जनवरी 2017 को शिकागो में अपने भाषण की शुरआत उन्होंने अपने इन्ही शब्दो से की. उन्होंने कहा कि “मैंने मुस्लिम अमरीकियों के खिलाफ़ भेदभाव को समाप्त किया.” उन्होंने कहा हैं कि अमेरिका में नस्ली भेदभाव को खत्म करने के लिए अभी बहुत कुछ करना होगा.

चाँद ही दिनों में सत्ता से बहार जाने वाले ओबामा ने कहा कि इराक़ से अमरीका ने सेना वापस बुलाई, जिस शख़्स ने 9/11 को अंजाम दिया था उसका ख़ात्मा किया गया और आर्थिक स्थिति बेहतर हुई. साथ इस दौरान ईरान और क्यूबा के साथ भी हमारे सम्बन्ध पहले की तुलना में बेहतर हुए.

अपने आखिरी भाषण के दौरान उन्होंने ये भी बताया कि जसि तरह उनको और उनकी पत्नी को शुभकामनाएं मिली हैं वो उससे पूरी तरह भावुक और खुश हैं.

ओबामा जैसे ही हाल में आए लोग खड़े हो गए, और हर तरफ़ तालियों की आवाज़ गूंजने लगीं. पूरे भाषण में तालियों का सिलसिला ऐसे ही जारी रहा और मुस्कुरा कर लोगों का स्वागत किया और फिर हंसकर लेम डक राष्ट्रपति वाली बात कही.

अपने किरदार को पहचानते हुए उन्होंने कहा कि “मैं 20 साल की उम्र में यहाँ आया का था और अभी तक मैं ये समझने की कोशिश कर रहा हूं कि मैं कौन हूं.”

अपनी स्पीच में आगे बढ़ते हुए उन्होंने कहा कि देश में बेहतर वातावरण के लिए ज़रूरी हैं कि दिलो में भी बदलाव हो और बदलाव से घबराने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि बदलाव ही अमरीका की ताक़त है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह करने के इच्छुक है तो रिश्ते के लिए लडकें/लड़कियों के फोटो देखें - फ्री रजिस्टर करें

Comments

comments

loading...

अरब देशों में नौकरी करना चाहते है तो यहाँ क्लिक करें